INDIAN FILM AND TELEVISION DIRECTOR ASSOCIATION ELECTION on 15TH AUGUST 2018

फिल्म असोसिएशन के इतिहास मे कभी ऐसा इलेक्शन नही हूआ जो 15ऑगस्त 2018 को अधेरी  वीरा देसाई रोड की MVM स्कुल मे होनेजारहा है।

इफटडा के इस इलेक्शन की तैयारी लोकसभा इलेक्शन से कम नही लग रही है।सोशल मीडिया  पर हर तरफ इस इलेक्शन की चर्चा होरही है।अशोक पंडित ग्रुप के लिए  फिल्म इन्डस्ट्री के नामचीन  डायरेक्टर सोशल मीडिया पर वोट की अपील कररहे है।दादासाहेब फाळके फिल्म फॉन्डेशन अवार्ड के अध्यक्ष  आशफाक खोपेकर के लेख अशोक पंडित ग्रुप के पक्ष मे सोशल मीडिया मे छाए हुए है।आशफाक खोपेकर ने अशोक पंडित ग्रुप के इफटडा मेम्बरो के हीत मे किये कामो का ब्योरा पेश करने साथ अपोजिशन ने कियेसारे कालेकारनामो के बारे मे लिखकर इफटडा मेम्बरो को जागरुक करने का काम  किया है।

अशोक पंडित ग्रुप की ओर से  इन 24 डायरेक्टरो का पॅनल है।

    

Ashoke Pandit-President [Ballot No. 1]

Rajkumar R Pandey-Sr Vice President [Ballot No. 1]

Jagdish A Sharma (Munna Bhai)- Vice President [Ballot No..1]

Sudhakar Sharma-Treasurer [Ballot No..2]

Kuku Kohli-Secretary General [Ballot No.1]

Ajit Srivastava-Joint Secretary [Ballot No. 2]

Aslam Sheikh-Joint Secretary [Ballot No. 3]

Ballee Grover-Joint Secretary [Ballot No.4]

Director’s Category-

Baljeet Kumar Rall (Billuji)-  [Ballot No. 4]

Jiten Purohit-  [Ballot No. 6] Mehul Kumar- [Ballot No. 7] Priyanka Ghatak- [Ballot No. 9] Ramnesh Puri-  [Ballot No. 12] Sunil Bohra-  [Ballot No. 15] Swapna Waghmare Joshi-  [Ballot No. 17]

Thakur Tapasvi-  [Ballot No. 18*

Assistant Director’s Category—-

Abhishek Kumar-  [Ballot No. 1] Anupama D Pathak-  [Ballot No. 3] Imple Ahuja-  [Ballot No. 4] Kaushal Meshram-  [Ballot No. 5] Manish Kumar Singh-  [Ballot No. 7] Mohd Rafi Khan-  [Ballot No. 8] Priya Kumari-  [Ballot No. 11] Thakur Akhilesh Awdhesh Singh-  Ballot No. 14]

15th AUG 2018 – From 9 am to 6pm

Venue: MVM Educational Campus, Opp. Laxmi Narayan Temple, Veera Desai, Andheri (W), MUM-58

इफटडा आज डायरेक्टरो के हित के मेडिकल हेल्प,डायरेक्टरो के डीसप्युट मिटाना और मास्टर क्लास जैसे  कई  कम कररही है जिसका शेर्य अशोक पंडित ग्रुप को जाता है। इसी की बदौलत आज के माहौल मे मुम्बई के सारे स्टुडियो मे और फिल्म के  दफ्तरो मे एक ही ग्रूप की चर्चा चलरही है “अशोक पंडित ग्रुप”।

शुभकामना के साथ इफटडा मेम्बरो के लिए संदेश ।

Mira Bhayander Municipal Corporation Election Results 2017

Mira Bhayander Municipal Corporation Election Results 2017: BJP Wins 61 Seats, Shiv Sena 22, Congress 10 Ind. 2.

The ruling Bharatiya Janata Party (BJP) swept Mira Bhayander Municipal Corporation election by winning 61 out of the 95 seats. Shiv Sena came at a distant second with 22 seats in its bag, while the Congress lagged behind by winning 10 seats. The NCP that had won 27 seats in 2012 failed to open its account. Two independent candidates also won the election.

Polling for the 94 of the 95 seats of Mira Bhayander Municipal Corporation took place amid heavy rains on Sunday.

FILM WRITER ASSOCIATION [FWA] ELECTION AND AGM Started ON 16 OCTOBER 2016, 10 am Onwards

FILM WRITER ASSOCIATION [FWA] ELECTION AND AGM Started ON 16 OCTOBER 2016,10 am, AT Celebration Club, Lokhandwala Complex, Andheri West.
Those Who Have Not Reached Plz Reach and Vote For Your Own Benefit , Please Do Vote  For Betterment Of Association
दोस्तों,
तीन टर्म सेज्यादा  FWA पर कब्ज़ा जमाकर बैठे अंजुम राजबली और उनके साथी जलीस शेरवानी ,कमलेश पांडेजी ,और कुछ लोग फिल्म राइटर एसोसिएशन को अपनी जहागीर समझकर मनमानी कर रहे है | इन्हें कोई अपोजीशन नहीं चाहिए जो इनकी मनमानी रोके इसी लिए अपने सात इंडस्ट्री के कुछ अच्छे लोगो को सिर्फ नाम के लिए जोड़कर रखा है जिन्हें इनके  काले कारनामे के  बारे में समझने की फुरसत नहीं  उनलोगों के  सपोर्ट का गलत इस्तीमाल ये लोग कर रहे है |
अबकीबार इलेक्शन में अपनी हार को देखते हुए इन्होंने 16 जुलाई को SGM बुलाई जिसकी ज़रूरत नहीं थी जो काम ये लोग SGM में करना चाहते थे वह काम AGM के रोज़ करसकते थे उसके लिये एसोसिएशन के  लाखो रुपये  बरबाद करने की ज़रूरत नहीं थी |
मई महीने से AGM और इलेक्शन due थे फिर भी AGM न करते हुए SGM सिर्फ इसलिए कियी गयी मुझे और मेरे पैनल को और इनको अपोज करने वालों को  इलेक्शन से disqualified कर सके ऐसे कानून पास करने थे| मैं ने इनके षड़यन्त्र को पहचान कर ऑब्जेक्शन का पत्र लिखा उस के जवाब में प्रेसिडेंट जलीस शेरवानी जी ने  SGM में लोगो को आश्वाशन देते हुये कहा के ‘ ये क़ानून जो बन रहा है ये AGM और इलेक्शन के बाद लागु होंगे’  लेकिन उसे इसी इलेक्शन में लागू करके मुझे और मेरे पैनल को और इनके अपोझिशन वालों को disqualified करदिया गया | इसका जवाब Gen .sectretory  . कमलेश पांडेजी से पूछने पर उन्होंने  हमें इलेक्शन से दूर रखने का उनका मकसद काबुल किया |
SGM का साहरा लेकर जो गलत कानून बनाये गये उन्हें बदलना होंगा जो इस प्रकार है |यह हम AGM में करसकते है अगर नहीं कर पाये तो और 2 साल इनलोगो की मनमानी बर्दाश्त करनी होंगी |अगर मेरी बातो में आप लोगों को कोई तथ्य नज़र आता है तो बड़ी तादाद में अगम में आकर मेरा सात दीजिए  felow  मेंबर भी आकर अपना निषेद वयक्त  करे |
1] असोसिएशन का नाम जो कई सालों पहले हमारे बुज़र्ग़ राइटरों ने रखा था फिल्म राइटर अससोसिएशन [ FWA] जिसे बदलकर स्क्रीन राइटर एसोसिएशन [ SWA ] सिर्फ इसलिए रखागया कियुके अंजुम राजबली इस नाम से अपना क्लासेस का बिज़नस चलाते है |
2] बगैर AGM के परमिशन बढ़ायी हुयी हर फीस को कम करना |
3]इलेक्शन के नये क़ानून को कैंसिल करना और असोसिएट और फेलो मेंबर को भी Agm  और इलेक्शन में बराबरी का हक़ का क़ानून पास करना |
4] एसोसिएट और फेलो मेंबर को उनका हक दिलाना उनसे फीस पूरी लीजाती है फिर उन्हें बराबरी का हक़ भी मिलना चाहिये|
5] एसोसिएशन के बर्बाद किये हुए पैसे की वसूली उसके जिमेदार लोगो से करना |
6]ऑनलाइन वोटिंग को जबतक सारे सदस्यो को इस की जानकारी और सारे सदस्यो का email id एसोसिएशन के रिकॉर्ड में नहीं आते  तब तक इसे रोकना होंगा वरना गलत इस्तेमाल होंगा | जो इन लोगो का प्लान है। ये लोग अपनी खुर्सी को बचाने लिए कुछ भी करसकते है ।
7) इनके मनमानी के खिलाफ आवाज उठाने वालो को सस्पेड किया गया,उन लोगो को न्याय दिलायेंगे। असोसिअशन के ऑफीस से और खर्चे से अपनी वोटबँक ये लोग बना रहे ताके इन के पर्सनल काम चलते रहे। लीगल खर्चे के नाम पर सदस्यो के फंड को बरबाद कर रहे है । इसे रोकना होंगा। 18 सालो से असोसिअशन मे चिपके हुए लोगों के काम का हिसाब लेना है ।
ज्यादा से ज्यादा तादाद में AGM में आकर अन्याय के खिलाफ लड़ाई में सात दीजिये|हमारी ट्रेडयूनियन को ट्रेडयूनियन की तरह चलाना है प्रइवेट कंपनी की तरह काम करने वालों को उनके घर भिजवाना है|ये लोग असोसिअशन के स्टाफ और फण्ड का इस्तेमाल करके अपना business चला रहे है|इन लोगो के षड़यंत्र को बेनक़ाब करना है| मेम्बरो की मेडीकल या और कोई हेल्प की है  उका डिटेल बूक मे झपवा कर खुद की पब्लिसीटी कर रहे है और दो सालो मे 52लाख रुपये लिगल खर्च के नाम पर कीसे दिएगये उस का कोई ब्योरा नही है। असोसिअशन पर कब्जा जमाने का इनका इरादा ठिक ऩही है सावधान होजाए।

आपका मित्र
आशफाक़ खोपेकर