लता दीदी के लिए बनाई गई अनूठी कला संग्रह को किया दान ! CPAA कैंसर से जूझ रहे बच्चों के जीवन को संवारने में। समाजसेवी डॉ. अनिल काशी मुरारका की ये अनमोल श्रधांजलि !

भारत रत्न और अमर स्वर कोकिला स्वर्गीय लता मंगेशकर आज हमारे बीच नही हैं। लेकिन लता दीदी का अहसास हर दिल मे है और सदा रहेगा। उनके कार्य और गीतों को ब्रम्हांड और ये जग ताउम्र तक याद करता रहेगा। हर कोई अपने ढंग से दीदी को श्रधांजलि दे रहा हैं। और इस बार समाज सेवी डॉ. अनिल काशी मुरारका को एक नेक कोशिश, सच्चे इंसानियत का परिचय देती हैं ।

जी हां, लता दीदी को जो कला संग्रह भेंट करना चाहते थे वो इच्छा तो अधूरी रह गयी लेकिन दीदी के लिए संग्रहित की कला को डॉ. अनिल , कैंसर से जूझ रहे बच्चों के जीवन को बनाने में दान दे दिए। इससे अच्छी श्रधांजलि और कुछ हो सकती हैं।

अनिल काशी मुरारका ने भारत रत्न लता मंगेशकर की कला के 35 कार्यों को कैंसर रोगियों की सहायता के लिए कलाकार राज सैनी को कैंसर रोगी सहायता संघ को दान कर दिया है।

मुरारका की कृतियों को साढ़े तीन साल से भी अधिक समय से सावधानीपूर्वक तैयार किया गया है।  मुरारका ने खुलासा किया, “मैं दीदी को उपहार देना चाहता था लेकिन यह मेरा दुर्भाग्य है कि मैं इसे उनके चरण कमलों में पेश नहीं कर सका। अगली सबसे अच्छी बात कैंसर बच्चों के जीवन को रोशन करना है मेरी सबसे बड़ी पहल हैं।”

सीपीएए की कार्यकारी निर्देशक अनीता पीटर उत्साहित हैं और वो कहती हैं कि”हम डॉ. अनील काशी मुरारका की अद्भुत पहल से बहुत उत्साहित थे। हम सीपीएए में, मेक अर्थ ग्रीन अगेन मेगा फाउंडेशन के साथ अपने मरीजों और प्रसिद्ध गायकों के साथ एक संगीत कार्यक्रम आयोजित करने की योजना बना रहे हैं, जहाँ हम पेंटिंग की नीलामी भी रखेंगे। हम इस घटना को जल्द ही एक वास्तविकता बनाने के लिए काम कर रहे हैं। हमें डॉ अनील काशी मुरारका जैसे और लोगों की जरूरत है इस नेक कार्य को अंजाम देने के लिए ” ।

———-Naarad PR and Image Strategists,

Anusha Srinivasan iyer: 9820535230, 9028798374

Siddhant: 9833775230

Vedant: 89285 55529

Donated  a unique art collection made for Lata didi –  CPAA in shaping the lives of children battling cancer  This priceless tribute of social worker Dr Anil Kashi Murarka

Director Shamas Siddiqui Indulges In High Octane Boxing Session Amidst His Choc-O-Block Schedule

Director Shamas Nawab Siddiqui, who is awaiting the release of his feature directorial debut Bole Chudiyan has now been indulging himself into an extensive boxing training between his packed schedules.

Shamas Siddiqui shares, “I am really thrilled to resume boxing training again. I had won several competitions during my college days in Dehradun but couldn’t continue it due to my passion for filmmaking. Currently, I am improving my strength and technique.”

Besides Bole Chudiyan, Shamas was in the news recently for his short film Zero Kilometres which is doing the rounds across the International film festivals. He has other short and long-format projects also to release in 2022.

  

Director Shamas Siddiqui indulges in high octane boxing session amidst.

Global Kayastha Conference Presentation on the occasion of Rakshabandhan Bandhan Sneh Ka

रक्षाबंधन के अवसर पर ग्लोबल कायस्थ कॉन्फ्रेंस की प्रस्तुति ‘बंधन स्नेह का’

नयी दिल्ली, 22 अगस्त ग्लोबल कायस्थ कॉन्फ्रेंस (जीकेसी) कला संस्कृति प्रकोष्ठ के सौजन्य से भाई- बहन के अटूट स्नेह को प्रदर्शित करने वाले त्योहार रक्षाबंधन के अवसर पर वर्चुअल कार्यक्रम ‘बंधन स्नेह का’ का आयोजन किया गया, जिसमें देशभर के लोगों ने सहभागिता की एवं एक से बढ़कर एक प्रस्तुति देकर लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया।

जीकेसी कला-संस्कृति प्रकोष्ठ के वरिष्ठ राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और कार्यक्रम के संयोजक प्रेम कुमार ने बताया कि बंधन स्नेह का कार्यक्रम में बिहार, महाराष्ट्र, झारखंड,छत्तीसगढ़, राजस्थान, आसाम, कर्नाटक और मध्यप्रदेश समेत देश भर के कई लोगों ने शानदार प्रस्तुति दी। उन्होंने बताया कि कार्यक्रम को जीकेसी कला- संस्कृति प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय महासचिव पवन सक्सेना और राष्ट्रीय सचिव श्रीमती शिवानी गौड़ ने होस्ट किया।

कार्यक्रम के सफल संचालन में डिजिटल-तकनीकी प्रकोष्ठ के ग्लोबल अध्यक्ष आनंद सिन्हा,डिजिटल- तकनीकी प्रकोष्ठ के ग्लोबल महासचिव सौरभ श्रीवास्तव ने महत्वपूर्ण भूमिका निभायी। उन्होंने कहा कि रक्षाबंधन का पर्व भाई-बहन के बीच प्यार, स्नेह और परस्पर विश्वास का प्रतीक है। भाई बहन के पावन रिश्तों के पर्व को रक्षा बंधन का त्यौहार माना जाता है।

जीकेसी के ग्लोबल अध्यक्ष राजीव रंजन प्रसाद ने कहा कि रक्षा बंधन का पर्व भारतीय संस्कृ्ति और परंपरा का महत्वपूर्ण हिस्सा है। पौराणिक काल से लेकर आधुनिक काल तक विभिन्न अवसरों पर रक्षा बंधन का त्यौहार मनाए जाने तथा इसके महत्व का उल्लेख मिलता है। रक्षा बंधन का त्योहार भाई-बहनों के बीच प्यार और सम्मान के बंधन का जश्न मनाता है और उनका सम्मान करता है।

जीकेसी की प्रबंध न्यासी श्रीमती रागिनी रंजन ने कहा कि रक्षाबंधन का त्यौहार भाई-बहन के पवित्र और प्रगाढ़ प्रेम का प्रतीक है। यह सभी धर्मों का, सभी वर्गों का साझा त्यौहार है।

जीकेसी कला-संस्कृति प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय अध्यक्ष देव कुमार लाल ने कहा कि यह त्यौहार परिवार एवं समाज में आपसी भाई-चारे को सुदृढ़ करता है। प्रदेश एवं देश में शांति, सौहार्द एवं आपसी भाई-चारे को बढ़ाने की दिशा में यह एक महत्वपूर्ण त्यौहार है।

आनंद कुमार सिन्हा ने कहा कि भारतीय संस्कति में रक्षा बंधन के त्योहार को बेहद खास माना जाता है। यह पर्व भाई और बहन के पवित्र और अटूट रिश्ते का प्रतीक है।भाई-बहन के अटूट बंधन, प्यार, विश्वास, त्याग और समर्पण का प्रतीक एव पावन पर्व रक्षा बंधन के अवसर पर सभी को बहुत-बहुत बधाई और हार्दिक शुभकामनाएं।

पवन सक्सेना ने कहा, राखी का यह पर्व भारतीय संस्कृति में पारिवारिक मूल्यों और सामाजिक सम्बंधों की प्रगाढ़ता के महत्त्व को रेखांकित करता है। उन्होंने कहा, न मांगे वो धन और दौलत, न मांगे उपहार! चाहत बहन की बस इतनी कि बना रहे प्यार!

शिवानी गौड़ ने कहा, मेरी नजर में रक्षाबंधन सिर्फ एक धागे का सूत्र नहीं है, यह एक विश्वास है, एक आस्था है जो हर बहन की अपने भाई के लिए होती है कि वह हर मुसीबत में अपनी बहन की रक्षा करेगा और भाई भी इस बात को पूरी तरह से निभाता है। मैं इस रक्षाबंधन पर ईश्वर से प्रार्थना करती हूं कि वह हर भाई को स्वस्थ सकुशल और खुश रखे।

 

कार्यक्रम के दौरान सुभाषिणी स्वरूप, शीला गौड़़, आलोक अवरिल, रूचिता सिन्हा, मृणालिनी अखौरी, अनुराग सक्सेना, गीता कुमारी, रवि शेखर सिन्हा, रजत नाथ, अपूर्वा सक्सेना, स्वेच्छा वर्मा, कुंदन तिवारी, रूपाली गांगुली,  नूतन सिन्हा,तन्वी माथुर, और रश्मि सिन्हा ने एक से बढ़कर एक प्रस्तुति से लोगों को मंत्रमुग्ध  कर दिया। कार्यक्रम के अंत में धन्यवाद ज्ञापन श्रीमती रागिनी रंजन ने दिया।

Beeshal D Bhattarai Musical Artists His Journey To Music World And Digital Marketing

Beeshal D Bhattarai has always been a popular person in the Musical industry because of the strategies and tactics that he uses while working and in the process of earning money and he is known as an underground Nepalese Musical Artist. It is not about how we on the cash, it’s about the type of labour that we do. Profit is something which is common to all kinds of work, the only variation being less or more. However, the Musical industry is a type of job which requires a lot of motivation, and just the motivation to earn is not enough.

Beeshal D Bhattarai, The Young Nepalese Entrepreneur, Musical Artist, And YouTuber says with the advancements and changing trends in digital technology, digital marketing is expected to take giant strides in the future.

The entire brand marketing game has changed drastically over the years, so that media consumption, which works as a major factor to establish the presence of any brand, product, or individual.

Basically, Beeshal D Bhattarai is an popular and well established Nepalese Musical Artist And YouTuber. Very soon, he will be one of the top Musical Artist In Nepal.

He continues to work hard on his dreams, which are bound to come true very soon.

https://m.imdb.com/name/nm12647629/

Love travelling to world famous casino destinations? Check online casinos for the better alternatives

Do you love travelling to popular casinos destinations? These cities attract millions of tourists every year. For them, travel means high-octane thrills in world-famous casinos, playing high stake games and meeting people of the same tribe.

This blog is for everyone who loves casino gaming and wish travelling to world-famous casino destinations.

What makes casinos destinations so popular?  

  • These cities are famous for some of the incredible and memorable casino experience you can dream of in the world; especially if you are a diehard fan of wagering in live casinos. Any city can host a pool of slots or a couple of poker tables. But, not all places can match the galore of popular casino destinations.
  • All popular casino destinations offer many other tourist attractions, starting from live performance, theme parks, shopping to best hotels, resorts and restaurants. So, you can always travel with family. Everyone will have something to enjoy.
  • Unlike others, casino destination cities are more lenient in attitude towards gaming and wagering. So, you will never feel uncomfortable or lack of personal safety. The crowd will always be energetic and full of fresh excitement.
  • Casino destinations are also famous for their never-ending nightlife. That’s the added advantage for casino lovers.

Top 10 popular travel and casino destinations in the world

  • Las Vegas
  • Monaco
  • Macau
  • Bahamas
  • London
  • Los Angles
  • Atlantic City
  • San Jose
  • Singapore Marina Bay
  • Baden Baden

However, travelling to casino destinations is never easy, especially in the covid-19 pandemic backdrop. Besides, taking days off from our busy schedule is tough. After all, we need money to earn for splurging on gaming tables.

Online casinos and gaming websites can be the perfect gateway for quick gaming refreshments. 

  • There are mobile casino gaming apps and casino websites. So, no one needs to take a day off, leave the comfort of their high-back chairs or cosy sofa.
  • Enjoy end-less choices of casino games and slots. Even, you can have various Indian traditional wagering games in digital avatars.
  • You may like small wagers or playing high-stake games – online casinos suit both the gaming personalities.
  • There are live casino games also with professional dealers and real-life gaming interactions. You won’t miss any gaming vibe.
  • In terms of casino bonus offers, freerolls or other promotional offers – online casinos are as good (if not better) as traditional casinos.
  • Online casinos operations are completely digital without any chance of human interventions. So, they are highly reliable in terms of information security, privacy, and financial transaction security.
  • Experience in online casinos is a lot more affordable than travelling to casino cities and enjoy a round of gaming.

 

What must you know before playing online casinos?

  • In case you are new to casino gaming, try to learn the rope first. That means understanding the basic rules of the game you are planning to play. There are scores of online resources.
  • There are games of pure chances like a lottery and slots. And there are skill-based games like Poker, Baccarat. However, it takes time and dedication to master skill-based casino games; these games are more financially rewarding too if played correctly.
  • Check online reviews of casino sites as well as games. There is plenty of unbiased, helpful expert and customer reviews. For example, Luckyraja regularly publishes expert-reviewed articles on casinos and games.
  • Always keep track of your financials. Never over-risk your bankroll. Casinos are enjoyable as long as you are playing within the limit and meeting your immediate responsibilities.

So, what do you think now? Still, want to wait for your next visit to Macau or start gaming online right away? Travelling can wait. Thirst for gaming cannot.

Maulana Yasub Abbas Interacted With The Media At Mumbai Airport And Spoke On Many Current Issues

मौलाना यासूब अब्बास ने मुंबई एयरपोर्ट पर मीडिया से प्रेस वार्ता करते हुए कई करंट मुद्दों पर बात की

मौलाना यासूब अब्बास ने मुंबई एयरपोर्ट पर मीडिया से बात करते हुए कई जमीनी मुद्दों पर बात की मौलाना यासूब अब्बास एक मजलिस को खिताब करने मुंबई आ रहे थे जहां उन्होंने एयरपोर्ट का प्रेस वार्ता करते हुए पाकिस्तान में हुए शिया किलिंग किसान आंदोलन एनआरसी  मुद्दा और लव जिहाद पर बोलते हुए इंसानियत की बात की

मौलाना यासूब अब्बास ने लोगों को आईना दिखाते हुए और सरकार को सही फैसला लेने के लिए आग्रह किया  चाहे वह किसान आंदोलन है या लव जिहाद हो या एनआरसीसी  हो या इमरान खान की पाकिस्तानी गवर्नमेंट हो  मौलाना ने एयरपोर्ट पर भी इंसानियत की बात करते हो हर धर्म हर जाति है साथ चलने की बात की उन्होंने इमरान खान को भी वार्निंग देते हुए कहा इमरान खान को चाहिए  इंसानियत को कत्लेआम से बचाया जाए और वह इसके लिए काम करें किसान आंदोलन पर बात करते हुए बताया कि किसानों की राय भी सरकार को लेनी चाहिए और इसके बारे में सोचना चाहिए एनआरसी  के मुद्दे पर गवर्नमेंट से रिक्वेस्ट की है की शिया की  बात को ना ठुकराया जाए लव जिहाद के मुद्दे पर भी यासूब अब्बास ना सरकार से आग्रह किया है के इंसानियत को रुसवा ना किया जाए क्योंकि धर्म की राजनीति ना करके सरकार इंसानियत की बात करे